लॉकडाउन में प्राइवेट अस्पताल की है चांदी, 24 घंटे सेवा के नाम पर लूट


गोरखपुर के कूड़ाघाट स्थित प्रगति मेटरनिटी होम एंड सर्जिकल क्लिनिक मे डॉ रीता मिश्रा इन दिनों बेहद चर्चा में है मैडम का एक क्लीनिक है जो कि कूड़ाघाट ऑन रोड है जिसका फायदा इनको बेहद मिलता है वैसे तो लॉकडाउन में क्लीनिक को खोलने की इजाजत अभी नहीं मिली है लेकिन मैडम की पहुंच बहुत ऊपर तक है । आवासीय क्लीनिक के नाम पर मैडम जी एक बड़ा अस्पताल चलाती हैं। फिलहाल मैडम जी ने ओपीडी बंद कर दी है। और इमरजेंसी चालू कर दिया है 24 घंटे, इमरजेंसी की फीस 500 से 1000 रुपए चार्ज करती हैं और दवाई के नाम पर दो सौ से ₹ 5,000  रूपए तक की दवाई देती हैं आराम ना होने पर मरीज अगर दवाई वापस करना चाहे तो वह कतई नहीं कर पाएगा या नहीं कर सकता वजह क्योंकि मैडम ने अपने मेडिकल स्टोर पर एक नोटिस लगवा दिया है लॉकडाउन के दौरान खरीदी गई दवाई किसी भी कीमत पर वापस नहीं ली जाएगी ।

इस तरह से मैडम इलाज और दवाई के नाम पर एक मरीज से एक हजार से ₹5000 के बीच में कमा रही हैं दिन भर में यह 60 मरीज देखती हैं आगे आप खुद अनुमान लगा सकते हैं कि मैडम की कमाई कितनी जोरों पर हैं। इसके अतिरिक्त आईसीयू में मरीज को तरह तरह की सेवाओं के नाम पर भी लूटा जाता है।

यह मामला तक उजागर हुआ जब एक स्टूडेंट ने यह कंप्लेंट किया कि प्रगति मेटरनिटी होम एंड सर्जिकल क्लिनिक अस्पताल में नियमों का उल्लंघन किया जा रहा है सोशल डिस्टेंसिंग के साथ खिलवाड़ हो रहा है साथ ही ठगी जैसे कार्य को अंजाम दिया जा रहा है।

Comments