इंफेक्शन कंट्रोल का ध्यान रख सेवा दें निजी अस्पताल-सीएमओ

इंफेक्शन कंट्रोल का ध्यान रख सेवा दें निजी अस्पताल-सीएमओ
मॉस्क, ग्लब्स और परिस्थितियों के अनुसार पीपीई किट इस्तेमाल कर इलाज देने का निर्देश

कभी भी किसी निजी अस्पताल का निरीक्षण कर सकते हैं इंफेक्शन कंट्रोल कमेटी के लोग

निजी अस्पतालों और उनके प्रतिनिधियों को प्रशिक्षित कर चुका है स्वास्थ्य विभाग

157 अस्पतालों को शुक्रवार को एनेक्सी भवन में इंफेक्शन कंट्रोल की रिफ्रेशर ट्रेनिंग दी गयी

गोरखपुर / मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. श्रीकांत तिवारी ने जनपद में संचालित सभी निजी अस्पतालों से अपील की है कि वह इंफेक्शन कंट्रोल को पूरी तरह से ध्यान में रखते ही सेवाएं दें। ऐसा करके चिकित्सक, उनके स्टॉफ और मरीज सभी सुरक्षित रह सकेंगे। उन्होंने कहा कि निजी अस्पतालों को चाहिए कि मॉस्क, ग्लब्स और परिस्थितियों के अनुसार पीपीई किट का इस्तेमाल करके ही इलाज किया जाए। अस्पतालों में इंफेक्शन कंट्रोल हो रहा है कि नहीं, इसकी जांच के लिए बनी इंफेक्शन कंट्रोल कमेटी के सदस्य निजी अस्पताल का दौरा कर आवश्यक निर्देश देंगे ।जान बूझ कर की जा रही लापरवाही के मामले में आवश्यक कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने बताया कि शुक्रवार को भी एनेक्सी भवन में इंफेक्शन कंट्रोल के लिये  में 157 निजी अस्पतालों को रिफ्रेशर ट्रेनिंग दी गयी।

सीएमओ ने बताया कि  जिले में इमरजेंसी सेवा के लिये खुल रहे निजी अस्पतालों और उनके प्रतिनिधियों को प्रशिक्षित किया है। इन प्रतिनिधियों को बताया गया था कि वह लोग खुद के संस्थान में कार्य कर रहे चिकित्सकों और स्टॉफ को भी प्रशिक्षित करेंगे। विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिध डॉ. संदीप पाटिल और डॉ. सागर घोड़ेकर की मदद से इन अस्पतालों को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के प्रोटोकॉल से परिचित कराया जा चुका है। एसीएमओ डॉ. आईबी विश्वकर्मा, डॉक्टर नंद कुमार और जिला क्वालिटी एश्योरेंस कंसल्टेंट डॉ. मुस्तफा खान ने इन अस्पतालों को इंफैक्शन कंट्रोल के उपायों के बारे में विस्तार से जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि अगर निजी अस्पताल प्रोटोकॉल का पालन कर सेवाएं दें तो मरीज से अस्पताल में और अस्पताल से मरीज में कोविड-19 संक्रमण की आशंका कम हो जाएगी।

सीएमओ ने कहा कि निजी अस्पतालों को चाहिए कि अगर उऩके यहां आने वाले किसी मरीज में फ्लू के लक्षण दिखें या तापमान मिले तो स्वास्थ्य विभाग के सक्षम अधिकारियों को उसके पूरे ब्योरे से अवगत कराएं और खासतौर से अगर मरीज कहीं बाहर से आया है या बाहर से आए किसी व्यक्ति के संपर्क में रहा है तो अवश्य ध्यान दें। छोटी-छोटी सावधानियां रख कर कोरोना संक्रमण की रोकथाम में सभी लोग मदद कर सकते हैं।

इंफेक्शन कंट्रोल कमेटी को जानिये
सीएमओ ने बताया कि एसीएमओ डॉक्टर आईबी विश्वकर्मा इंफेक्शन कंट्रोल कमेटी  के अध्यक्ष है। डॉक्टर ए के श्रीवास्तव, नगर मजिस्ट्रेट, डॉक्टर एन के पांडेय, डॉक्टर एम नाथ, बीआरडी मेडिकल कालेज के प्रतिनिधि, डॉक्टर शुभ्रा श्रीवास्तव, आईएमए सचिव डॉक्टर राजेश गुप्ता, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के प्रतिनिधि, विश्व स्वास्थ्य संगठन प्रतिनिधि, यूनीसेफ के प्रतिनिधि और जिला क्वालिटी कंसल्टेंट डॉक्टर मुस्तफा खान इस समिति में सदस्य हैं।

Comments