"हॉटस्पॉट" वाले क्षेत्रों को पूरी तरह से किया जाए 'शर्ट डाउन' नहीं तो...




  जिला अधिकारी महेंद्र सिंह बहादुर ने कि अधिकारियों से मीटिंग कि कोई भी गरीब व्यक्ति भूखा न रहे     पाए सभी को मिले सुविधाएं।


मैनपुरी/ मैनपुरी जिलाधिकारी महेंद्र बहादुर सिंह अधिकारियों के साथ बैठक में कहा कि हॉटस्पॉट वाले क्षेत्रों के 01 किलोमीटर एरिया में कोई भी दुकान न खुले, आवाजाही न हो, 01 किलोमीटर क्षेत्र के एरिया का कोई भी व्यक्ति घर से न निकले, गैस एजेंसी स्वामी, दूध विक्रेता, राशन विक्रेता घर-घर होम डिलीवरी कराएं। दुकान, गोदाम में पैकेट बनाकर, सिलेंडर लोड कराकर भेजे जाएं, दुकान का शटर बंद रहे, किसी भी नागरिक को जरूरी खाद्य सामग्री, गैस सिलेंडर, दूध कि कोई कमी न रहे, मांग के अनुसार प्रत्येक घर तक सामग्री पहुंचे।

हॉटस्पॉट, बफर जोन में अच्छी तरह सैनिटाइजिंग, फॉगिंग मॉपिंग करायी जाये। उन्होंने कहा कि जन सामान्य की भलाई के लिए लॉकडाउन का कड़ाई से पालन हो लेकिन किसी भी व्यक्ति को खाद्यान्न संबंधी कोईअसुविधा न हो, प्रत्येक जरूरतमंद तक किसी न किसी माध्यम से खाद्य सामग्री, खाने के पैकेट पहुंचे सुनिश्चित किया जाए।श्री सिंह ने मुख्य विकास अधिकारी, अपर जिलाधिकारी से कहा कि ऐसे गरीब व्यक्ति जो किसी भी श्रेणी में पंजीकृत नहीं है और वास्तव में पात्र हैं उन्हें जल्द से जल्द चिन्हित कर प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत रु. 1000 की धनराशि उपलब्ध कराई जाए।

मुख्य विकास अधिकारी, अपर जिलाधिकारी ने बताया कि ऐसे व्यक्तियों का चिन्हांकन शहरी क्षेत्र में अधिशासी अधिकारियों एवं ग्रामीण क्षेत्र में खंड विकास अधिकारियों, ग्राम पंचायत सचिवों के माध्यम से कराया गया है और अब तक 11207 व्यक्तियों के खाते में 01 करोड़ 12 लाख, 07 हजार रु., की धनराशि भेजी जा चुकी है, श्रम विभाग में पंजीकृत 15400 श्रमिकों के सापेक्ष 13405 श्रमिकों के खाते में भी 01 करोड,34 लाख, 05 हजार की धनराशि ट्रांसफर की जा चुकी है, ऐसे व्यक्ति जिनके पास अंत्योदय, पात्र गृहस्थी राशन कार्ड नहीं थे उन्हें चिन्हित कर 5000 नए राशन कार्ड बनाए गए, नये बने राशन कार्डों में कुल 25 हजार यूनिट थे। बनाए गए नए राशन कार्ड पर 05 किलो प्रति यूनिट के हिसाब से 01 लाख 25 हजार किलो निःशुल्क चावल राशन डीलर के माध्यम से उपलब्ध कराया गया। उन्होंने कहा कि जिले के अधिकारी संकट की इस घड़ी में निरंतर गली-गली, मोहल्ले-मोहल्ले जाकर पात्र लोगों तक खाद्य सामग्री पहुंचा रहे हैं, किसी भी व्यक्ति को कोई असुविधा न हो इसका पूरा ध्यान जिला प्रशासन रख रहा है।


उन्होने उप निदेशक कृषि, जिला खाद्य विपणन अधिकारी को निर्देशित करते हुये कहा कि लॉकडाउन के दौरान किसी भी कृषक को कृषि सम्बन्धी कार्यों, गेहूं विक्रय में कोई असुविधा न हों, कृषि विभाग से जुड़े सभी अधिकारी आपस में समन्वय स्थापित कर किसानों को समय से खाद, बीज की उपलब्धता सुनिश्चित करायें, गेहूं क्रय केन्द्रों पर सामाजिक दूरी का पालन करते हुये गेहूं खरीदा जाये।बैठक में पुलिस अधीक्षक अजय कुमार पाण्डेय, मुख्य विकास अधिकारी नगेंद्र शर्मा, अपर जिला अधिकारी बी.राम, अपर पुलिस अधीक्षक ओम प्रकाश, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ एके पांडे उप जिलाधिकारी सदर रजनीकांत क्षेत्राधिकारी नगर अभय कुमार राय मुख्य चिकित्साधीक्षकौ डॉक्टर आरके सागर सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी राजेश कर्दम उप निदेशक कृषि दुर्ग विजय सिंह मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी प्रमोद कुमार शर्मा जिला कार्यालय अधिकारी अरविंद कुमार जिला पंचायत राज अधिकारी स्वामी दीन जिला पूर्ति अधिकारी आदि लोग मौजूद रहे।