मोदी सरकार ने कोरोना संकट से निपटने के लिए जो रणनीति अपनाई; कैसे बर्बाद हो जाएगा भारत

मोदी सरकार ने कोरोना संकट से निपटने के लिए जो रणनीति अपनाई; कैसे बर्बाद हो जाएगा भारत
कोरोना वायरस पर नियंत्रण के लिए जो पैंतरा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार ने अपनाया है। यह पैंतरा केवल विकसित देशों ने अपनाया है। जो विकासशील देश हैं जहां गरीब तबके के लोग रहते हैं ऐसे देशों में अभी तक लॉक डाउन का सहारा नहीं लिया है ।

जाने क्यों नहीं लिया है और देशों ने लॉक डाउन का सहारा
कोरोना संकट को झेल रहे वे सभी देश जिनको अपनी इकोनामी अर्थव्यवस्था बिगड़ने का डर है वह लोग केवल प्रिकॉशन और एतिहाद बरत रहे हैं। 

कैसे बर्बाद होगा सकता है भारत
भारत अर्थव्यवस्था के पायदान में 7 नंबर पर आता है। संयुक्त राष्ट्र व्यापार और विकास सम्मेलन के एक ताजा विश्लेषण में कहा गया है कि दुनिया की दो-तिहाई आबादी प्रभावित होगी और अगले दो वर्षों के दौरान विकासशील देशों में करीब 2,000 अरब डॉलर से 3,000 अरब डॉलर के बीच विदेशों से आने वाला निवेश प्रभावित हो सकता है।

 G-20 के मुताबिक उनकी अर्थव्यवस्था को सहारा देने के लिए ये पैकेज कुल 5,000 अरब डॉलर का होगा

रिपोर्ट में कहा गया है कि यह एक अभूतपूर्व संकट है, जिसके लिए अभूतपूर्व फैसले करने हैं। अंकटाड (सम्मेलन) ने कहा है कि इन राहत उपायों के बावजूद विश्व अर्थव्यवस्था इस साल मंदी के दौर में चली जाएगी और इससे अरबों-खरबों डॉलर के वैश्विक निवेश का नुकसान होगा, जो विकासशील देशों के लिए गंभीर मुसीबत बन जाएग ।

Comments